कामगार को वापस घर भेजने का पूरा खर्च उठाता है नियोक्ता ! अगर भारतीय करते हैं UAE में नौकरी तो जानें ज़रूर

संयुक्त अरब अमीरात में अगर आप काम करने जा रहे हैं तो आपको यह जानना जरूरी है कि काम समाप्त होने के बाद जब आप अपने घर लौटने की तैयारी करते हैं या फिर किसी और देश जाने की तैयारी करते हैं आपके यात्रा के खर्च की जिम्मेदारी नियोक्ता की होती है। यह नियम अमीरात के कानून में दर्ज है.

court

UAE Labour Law के मुताबिक क्या है नियोक्ता की जिम्मेदारी

UAE Labour Law के मुताबिक यह नियोक्ता की जिम्मेदारी होती है। संयुक्त अरब अमीरात में प्राइवेट सेक्टर संस्थानों में काम कर रहे कर्मचारियों का यह अधिकार है कि उनका यह खर्च (repatriation ticket) नियोक्ता उठाए। मगर कभी कभी हालात ऐसी भी होती है कि जिसमें नियुक्त अगर चाहे तो पूरी तरह से इस खर्च को उठाने से मना कर सकता है आप इसमें कोई कानूनी दांवपेच नहीं लगा सकते हैं.

workers

आईये अब जानते हैं कि किन स्थितियों में नियोक्ता वापसी का खर्च (repatriation ticket) उठाने से मना कर सकता है या कानून के मुताबिक वह इसके लिए जिम्मेदार नहीं होगा?

  1. अगर आप अपना नियोक्ता बदल लेते हैं यानी कि दूसरा काम करने लग जाते हैं तो ऐसी स्थिति में आपका यह खर्च वहन करना नियोक्ता की जिम्मेदारी नहीं होगी।

2. अगर आपने अपने काम से रिजाइन दे दिया है तो नियोक्ता आपका यह खर्च उठाने से मना कर सकता है।

3. अगर आप संयुक्त अरब अमीरात में ही रहना चाहते हैं तो भी नियोक्ता आपका यह खर्च नहीं उठाएगा।

4. अगर आपको गलत व्यवहार के कारण कंपनी से निकाल दिया जाता है तो भी आपको इसका लाभ नहीं मिलेगा।

Leave a Comment