UAE में लागू हुआ ‘बाल श्रम कानून’, बच्चों से करवाया ये 3 तरह की मज़दूरी तो खैर नहीं ! जे ल और जुर्माना दोनों

संयुक्त अरब अमीरात में बाल श्रम कानून को अब और सख्त कर दिया गया है. बच्चो पर ज़ुल्म करना, उन्हें सताना तड़पाना अब भारी पड़ सकता है क्यूंकि अब UAE में Child Labour Law का नया नियम सख्ती से लौ किया जा रहा है, जिसका पालन करना हर एक की ज़िम्मेदारी होगी.

court

बाल श्रम कानूनों का उल्लंघन करने पर सजा

अमीरात में बाल श्रम कानूनों का उल्लंघन करने पर कड़ी सजा हो सकती है, जिसमें जेल समेत भारी जुर्माना शामिल है. रास अल खैमाह पुलिस ने हाल ही में बाल अधिकारों पर नागरिकों को रूबरू करवाया है. ताकि जो इस कानून का उल्लंघन कर रहे हैं वे सावधान हो जाए.

आईये बताते हैं Child Labour Law में बच्चों पर होने वाले किस activity को उललंघन माना जाएगा :

1. भीख मांगने के लिए बच्चों का शोषण करना

2. अवैध बाल श्रम

3. बच्चों से ऐसी activity कराना जो उनकी शिक्षा में बाधक हों, उनके शारीरिक या मानसिक स्वास्थ्य को नुक्सान पहुचाये।

cll

अगर इन नियमों के उल्लंघन में कोई पकड़ाता है तो उसपर कारावास या Dh20,000 से अधिक का जुर्माना लगाया जाएगा। दरअसल UAE सरकार बच्चों और उनके अधिकारों की रक्षा के लिए कानून लागू करके उनकी रक्षा करने और उनकी शिक्षा को बढ़ाने पर अधिक ध्यान केंद्रित कर रही है. बच्चे पढ़ लिखकर देश का नाम रौशन करें इसपर UAE हुकूमत का ख़ास ध्यान है.

mazdoori

बाल अधिकार कानून “वदीमा कानून”

साल 2016 में, संयुक्त अरब अमीरात ने बच्चों के अधिकारों से जुड़ा एक नया कानून पेश किया, जिसका नाम 2016 का संघीय कानून नंबर 3 है। संयुक्त अरब अमीरात बाल अधिकार कानून, जिसे पहले “वदीमा कानून” के नाम से जाना जाता था. इस कानून की मदद से बच्चों पर होने वाले दुर्व्यवहार को रोका जाता था और स्वास्थ्य देखभाल और शिक्षा के अधिकार को सपोर्ट किया जाता था. बता दे कि UAE का ये child labour law किन्ही एक लिए नहीं बल्कि अमीरात के नागरिकों और प्रवासियों दोनों के बच्चों पर लागू किया गया है.

Leave a Comment