HomeUAEरूस भारतीय खरीदारों से रुपये या डॉलर के बजाय UAE की करेंसी...

रूस भारतीय खरीदारों से रुपये या डॉलर के बजाय UAE की करेंसी दिरहम में चाहता है तेल निर्यात का भुगतान, जानें क्‍यों ?

रूस कुछ भारतीय खरीदारों को तेल निर्यात के लिए UAE dirhams में भुगतान की मांग कर रहा है. सूत्रों ने एक दस्तावेज भी दिखाया. मास्को (रूस) पश्चिमी देशों द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों के प्रभाव से खुद को बचाने के लिए अमेरिकी डॉलर से दूर हो रहा है. फरवरी के अंत में यूक्रेन पर अपने आक्रमण को लेकर रूस पर संयुक्त राज्य अमेरिका और उसके सहयोगियों के कई प्रतिबंध लगाए हैं. अमेरिका और उसके सहयोगियों का आरोप है कि रूस ने “विशेष सैन्य अभियान” चलाया है.

oil

रॉयटर्स द्वारा देखा गया एक इनवॉइस कहता है कि एक रिफाइनर को तेल की सप्लाई पर बिल का कैलकुलेशन डॉलर में किया जाता है, लेकिन भुगतान का अनुरोध दिरहम में किया जाता है. रूस की प्रमुख तेल उत्पादक रोसनेफ्ट, एवरेस्ट एनर्जी और कोरल एनर्जी सहित अन्य ट्रेडिंग फर्मों के जरिए भारत में कच्चा तेल भेज रही है. भारत अब चीन के बाद दूसरा सबसे बड़ा तेल खरीदार देश बन चुका है.

लाइव मिंट की एक रिपोर्ट के मुताबित, पश्चिमी प्रतिबंधों ने कई तेल आयातकों को मास्को से दूर रखा है, जिससे रूसी कच्चे तेल की हाजिर कीमतों में अन्य ग्रेड के मुकाबले डिस्काउंट दर्ज किया गया है. इसी ने भारतीय रिफाइनर, जो माल ढुलाई की ऊंची लागत के कारण शायद ही कभी रूसी तेल खरीदते थे, ने अच्छे डिस्काउंट पर तेल खरीदा.

oils

मास्को ने जून में लगातार दूसरे महीने इराक के बाद भारत के लिए दूसरे सबसे बड़े तेल आपूर्तिकर्ता के रूप में सऊदी अरब की जगह ली. सूत्रों ने कहा कि कम से कम दो भारतीय रिफाइनर पहले ही दिरहम में कुछ भुगतान कर चुके हैं, और आने वाले दिनों में इस तरह के भुगतान करेंगे. इनवॉइस में दुबई में इसके बैंक, मशरेक बैंक के माध्यम से Gazprombank को भुगतान दिखाया गया है.

tel

UAE जो कि खुद को तटस्थ कहता है, ने मास्को पर कोई प्रतिबंध नहीं लगाए हैं. इस तरीके से हो रहा भुगतान पश्चिम में कुछ लोगों की निराशा को बढ़ा सकता है, जो निजी तौर पर कहते हैं कि संयुक्त अरब अमीरात की स्थिति अस्थिर है और वह रूस के साथ है. सूत्रों ने कहा कि रोसनेफ्ट द्वारा इस्तेमाल की जाने वाली ट्रेडिंग फर्म्स ने इस महीने से दिरहम में डॉलर के बराबर भुगतान की मांग करना शुरू कर दिया है. रिपोर्ट के मुताबिक, रोसनेफ्ट, कोरल एनर्जी और एवरेस्ट एनर्जी ने कमेंट हेतु रॉयटर्स द्वारा भेजे गए ईमेल का जवाब नहीं दिया.

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular