मज़दूरों के घरों में हो जाती हैं चोरी ! बचने के लिए कुछ ख़ास Tips!

रास अल खैमाह पुलिस में मीडिया और जनसंपर्क विभाग के निदेशक कर्नल डॉ अब्दुल्ला अहमद सलमान अल नूमी ने बताया कि जागरूकता अभियान नकारात्मक परिणामों को सीमित करने के लिए आंतरिक मंत्रालय के साल भर के विजन, मिशन और रणनीतिक उद्देश्यों के अनुरूप चलाया गया था। ताकि समाज में और अमीरात के तमाम लोगों को नुकसान से बचाया जा सके !

बता दे कि इस अभियान का उद्देश्य चोरी जैसे अपराधों को कम करना है. इस तरह देश में प्रति 100,000 लोगों पर अपराध दर को कम करना है। निदेशक का कहना है कि हमारे लिए श्रमिकों की चोरी को संबोधित करना महत्वपूर्ण था क्योंकि वे समाज का एक महत्वपूर्ण वर्ग हैं और उनकी रक्षा की जानी चाहिए।
रास अल खैमाह पुलिस जागरूकता और मीडिया अभियान शाखा के निदेशक कैप्टन सईद सलीम अल मसाफी ने बताया कि जागरूकता अभियान का उद्देश्य श्रमिकों को उनके आवासीय वातावरण में चोरी से बचने के लिए सावधानियों और निर्देशों का एक मैनुअल प्रदान करना है।

चलिए अब बताते हैं कि एक मज़दूर होने के नाते आपको चोरी से बचने के लिए किन चीज़ों का पालन करना चाहिए या क्या एहतियात बरतना चाहिए !

सबसे पहला कि अपनी वित्तीय बचत जमा करने के लिए बैंक अकाउंट खोलें, ज़्यादा रकम लेकर यानी नकदी ले जाने से बचें।

दूसरा ये कि दूसरों को यह बताने से बचें कि उनके पास कितने पैसे हैं. उनके कमरे की चाबियां हर समय सुरक्षित रखें और चाभी किसी और बिलकुल न दे .

और तीसरा सबसे ज़रूरी ये कि अजनबियों को अपने कमरे में न आने दें और अगर कुछ चोरी हो भी जाए तो इसकी सूचना तुरंत पुलिस को दें।

अगर बात करें दुबई में एक आम मज़दूर कितना कमा लेता है ! दुबई में एक मजदूर की सैलरी लगभग प्रति माह 1500 से 3000 हज़ार Dirham होता है। यानी यह इंडियन रुपया में 31,761 से 63,523 हज़ार रुपया होता है। वैसे दुबई में सभी मजदूर का सैलरी एक समान नहीं होती है हमने जो आपको सैलरी बताई है वो एक औसत सैलरी है !

वहीँ बहुत लोगों के मन में ये भी सवाल होता है कि क्या बिना नौकरी के मिल सकता है यूएई का वीजा ! हालांकि अधिकांश प्रवासी, जो संयुक्त अरब अमीरात की आबादी का लगभग 85 प्रतिशत हिस्सा हैं, देश में एक कर्मचारी के रूप में काम करते हैं और यहां रहने के लिए वर्क वीजा की आवश्यकता होती है, हालांकि, वीजा योजना का उल्लेखनीय विस्तार हुआ है.

दुबई वर्क परमिट होने के क्या लाभ हैं?

दुबई में कमाने पर आपको टैक्स नहीं देना पड़ता है !
जब तक आपका रोजगार मौजूद है तब तक निवासी रहें
अपने परिवार को प्रायोजित करें- माता-पिता, पत्नी और बच्चे।

अगर वर्क परमिट चाहिए तो इन शर्तों को करे फॉलो :

आपकी आयु कम से कम 18 वर्ष होनी चाहिए।

आपके नियोक्ता का व्यवसाय लाइसेंस चालू होना चाहिए।

ध्यान रहे कि आपके नियोक्ता ने किसी भी तरह से कानून तोड़ा नहीं हो

आपके द्वारा किया जाने वाला कार्य आपके नियोक्ता के व्यवसाय की प्रकृति के अनुसार होना चाहिए।

इसके अलावा, विदेशी श्रमिकों को उनकी योग्यता के आधार पर तीन ग्रुप्स में से किसी एक केटेगरी में होना चाहिए !

श्रेणी 1: जिनके पास ग्रेजुएशन की डिग्री है
श्रेणी 2: किसी भी क्षेत्र में पोस्ट-सेकेंडरी डिप्लोमा रखने वाले हो या फिर
श्रेणी 3: हाई स्कूल डिप्लोमा वाले लोग हो !

अब बताते हैं कि संयुक्त अरब अमीरात वर्क परमिट के लिए कौन कौन से Documents लगेंगे :

एक प्रति के साथ आपका मूल पासपोर्ट।

पासपोर्ट साइज फोटो

आपके देश में संयुक्त अरब अमीरात दूतावास या वाणिज्य दूतावास, साथ ही साथ आपके देश के विदेश मंत्रालय, दोनों को आपकी योग्यताओं का अनुमोदन करना चाहिए।

संयुक्त अरब अमीरात में सरकार द्वारा अनुमोदित स्वास्थ्य केंद्र से एक मेडिकल सर्टिफिकेट का होना अनिवार्य !

आपको काम पर रखने वाली कंपनी का कंपनी कार्ड या वाणिज्यिक लाइसेंस होना चाहिए

वर्क परमिट प्राप्त करने के लिए लेबर कार्ड और रेजिडेंस वीज़ा की आवश्यकता होती है।

Leave a Comment