सऊदी अरब की करेंसी से आगरा में कर रहा था ठगी ! कबाड़ा बीनने का काम… पड़ा छापा तो लगी दोनों को हथकड़ी

भारत में दूसरे देश का प्रवासी सऊदी रियाल नोट के साथ पकड़ाया है. सऊदी करेंसी के साथ ये लोगों को ठग रहे थे। दोनों आरोपी कबाड़ा बीनने का काम रहे थे और लोगों को ठगी का शिकार बना रहे थे. थाना सदर बाजार इलाके स्थित टक्कर रोड से बांग्लादेश के दो नागरिकों को गिरफ्तार किया गया. इनके पास से बहुत सारे नोट्स बरामद हुए.

 

indian

बता दे कि इन दो बंगलादेशी नागरिकों के पास से सऊदी अरब की मुद्रा 500 रियाल (50 के दस नोट) बरामद हुए हैं। उन्होंने अवैध तरीके से भारत में प्रवेश किया था। पूछताछ में पता चला कि आरोपी विदेशी मुद्रा बेचकर लोगों को ठगी का शिकार बना रहे थे। बांग्लादेशियों के पकड़े जाने के बाद खुफिया एजेंसियां सक्रिय हो गईं। STF के निरीक्षक हुकुम सिंह के मुताबिक, गिरफ्तार अभियुक्तों में मामून शेख उर्फ मोहम्मद अली और सुनील हैं.

मामून बांग्लादेश के जिला मदारीपुर स्थित थाना राजोर के कासी नगर का रहने वाला है। सुनील भी बांग्लादेश का रहने वाला है। हाल में पश्चिम बंगाल के हावड़ा स्थित सियालदाह रेलवे स्टेशन के पीछे रह रहा था। उनके पास से दस रियाल के नोट मिले हैं, एक नोट 50 रियाल का है। इस तरह से उनके पास 500 रियाल थे। इसके अलावा रियाल के कलर प्रिंट करके निकाले गए 62 नकली नोट, दो मोबाइल और 160 रुपये बरामद हुए।

uae 10 things

पश्चिम बंगाल में मामून ने बनवाया फर्जी आधार कार्ड

एसटीएफ के मुताबिक, आरोपी मामून शेख उर्फ मोहम्मद अली और सुनील को तीन महीने पहले भारत की सीमा में शुकंतु नामक व्यक्ति ने अवैध तरीके से प्रवेश कराया था। इसके लिए सात हजार रुपये लिए। वह तीन दिन पश्चिम बंगाल के हावड़ा रेलवे स्टेशन पर रुके थे। मामून ने एक हजार रुपये में फर्जी आधार कार्ड बनवा लिया। वह राजधानी से सफर करके दिल्ली आ गए। उन्होंने दो महीने तक बवाना में कबाड़ा बीनने का काम रुनकता में आलमगीर करते थे।

आगरा में महिला ने उपलब्ध कराई थी विदेशी मुद्रा

पूछताछ में आरोपी मामून शेख ने बताया कि दोनों की मुलाकात 10 दिन पहले एक महिला से हुई थी। उसने ठगी का तरीका बताया। विदेश मुद्रा भी दी। वह ग्रामीण इलाके के लोगों को विदेशी मुद्रा दिखाते थे। वह 300 रुपये के हिसाब से एक नोट दे देंगे। वह एक गड्डी बनाते थे, जिसमें आगे और पीछे असली नोट लगाते थे। बाकी कलर प्रिंट करके निकाले गए नकली नोट होते थे। जो लोग झांसे में आते थे, उनको दे देते थे। उनसे यही कहते थे कि यह नोट कबाड़ बीनने के दौरान पड़े मिले हैं। वह 10 से अधिक लोगों को ठगी का शिकार बना चुके हैं। वह सदर क्षेत्र के एक व्यक्ति को नोट देने आए थे। तभी एसटीएफ ने पकड़ लिया। बता दे ये खबर इसी साल 2022 के जनवरी महीने की है.

Leave a Comment