सऊदी अरब देश से बाहर पैदा हुए बच्चे का रेजीडेंसी वीज़ा कैसे बनेगा ! क्या एयरपोर्ट पर एंट्री करते समय मिल सकता है वीज़ा !

सऊदी अरब देश से बाहर पैदा हुए बच्चे का रेजीडेंसी वीज़ा कैसे बनेगा ! क्या एयरपोर्ट पर एंट्री करते समय नवजात बच्चों को मिल सकता है वीज़ा !

अस्सलाम अलैकुम।।।।।।।।।।।।।।।।। मैं अंदलीब अख्तर और आप देख रहे हैं Daily Saudi News !

सऊदी अरब में 2017 से विदेशियों के परिवारों पर परिवार शुल्क कानून लागू किया गया है, जो अभी भी जारी है। शुरुआत में family fee 100 रियाल प्रति व्यक्ति प्रति माह निर्धारित किया गया था, जिसे हर बार 100 रियाल बढ़ाया जाता था। फिर साल 2020 में पारिवारिक शुल्क 400 रियाल प्रति व्यक्ति प्रति माह निर्धारित किया गया है। फैमिली फी के भुगतान के बिना रेजीडेंसी वीज़ा का रिन्यूअल नहीं हो सकता है.

इस साल की शुरुआत से, सऊदी आंतरिक मंत्रालय ने इक़ामा यानी रेजीडेंसी वीज़ा के नवीनीकरण के लिए सुविधा प्रदान की है कि इक़ामा शुल्क तिमाही आधार पर जमा किया जा सकता है। निवास के नवीनीकरण के लिए तीन तीन महीने पर यानी quarterly system ने विशेष रूप से उन प्रवासियों को लाभ दिया है जो अपने परिवारों के साथ सऊदी किंगडम में रहते हैं।

अगर आपने हमारे पेज को अब तक फॉलो नहीं किया है तो तुरंत कर लें ताकि आप तक ज़रूरी जानकारियां पहुँचती रहे !

जवाज़ात से एक शख्स ने सवाल किया कि ‘ क्या देश से बाहर पैदा हुए बच्चे को अपने साथ ला सकते हैं, क्या देश में आने पर एयरपोर्ट पर नवजात शिशु को वीजा जारी किया जाएगा?

तो इस सवाल के जवाब में सऊदी जवाज़ात ने कहा कि नवजात को अपने देश से पासपोर्ट मिल जाना चाहिए, जिसके बाद वह सऊदी दूतावास से संपर्क करके रजिस्ट्रेशन करवाएं ताकि सऊदी वीजा जारी किया जा सके. यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि जिन लोगों के बच्चे देश के बाहर पैदा हुए हैं, उन्हें नवजात का पासपोर्ट तैयार करना चाहिए और अपने देश में सऊदी दूतावास या वाणिज्य दूतावास से संपर्क करना चाहिए। यहाँ नवजात शिशु के birth certificate के अनुसार वीजा जारी किया जाएगा।

देश में पहुंचने के बाद नवजात का इकामा कार्ड यानी रेजीडेंसी कार्ड जारी करना होता है, जिसके लिए पासपोर्ट और इमिग्रेशन विभाग को रेफर करें। जवाज़ात कार्यालय में आने से पहले प्रचलित नियमों के अनुसार समय प्राप्त करना चाहिए। प्राधिकरण के साथ नियुक्तियां अबशर पोर्टल से प्राप्त की जा सकती हैं। प्राप्त किए गए समय पर, नामित परमिट कार्यालय में जाएं जहां नवजात फोटो और पासपोर्ट मूल और फोटोकॉपी के साथ जमा किए जाते हैं।

रेजीडेंसी फीस के अलावा, पारिवारिक आय मासिक शुल्क का भुगतान जवाज़ात कार्यालय में आने से पहले किया जाना चाहिए। इस वर्ष प्रति व्यक्ति प्रति माह 400 रियाल की दर से फीस लिया जा रहा है, जो एक वर्ष के लिए 4800 रियाल है। फीस का भुगतान करने के बाद, अनुमति के साथ नवजात शिशु का रेजीडेंसी वीज़ा बन जायेगा !

वहीँ राज्य में इक़ामा के नियमों के बारे में, एक और नए आए विदेशी कर्मचारी ने पूछताछ में पूछा कि ‘मैं नए कार्य वीजा पर पहली बार सऊदी राज्य में आया हूं, मुझे यहां आए दो महीने बीत चुके हैं, लेकिन इकामा अभी तक जारी नहीं किया गया है, जिसके कारण मैं अपना बैंक अकाउंट नहीं खोलवा पा रहा !
कंपनी वालों का कहना है कि 90 दिन बाद इकामा जारी होगा !

तो जवाज़ात ने जवाब में कहा कि जनशक्ति और समाज कल्याण मंत्रालय जनसंख्या कानून के अनुसार, नियोक्ताओं की सुविधा के लिए इकामा जारी करने से पहले 90 दिनों की परीक्षण अवधि निर्धारित की गई है। नियोक्ता और कर्मचारी के बीच समझौता न होने की स्थिति में, परीक्षण अवधि को और बढ़ाया जा सकता है, लेकिन परीक्षण अवधि बढ़ाने से पहले, यह आवश्यक है कि नियोक्ता और कर्मचारी एक दूसरे से सहमत हों।

कानून के अनुसार, यदि मुकदमे की अवधि नहीं बढ़ाई जाती है और 90 दिनों की समाप्ति के बाद रेजीडेंसी वीज़ा जारी नहीं किया जाता है, तो 500 रियाल का जुर्माना लग जायेगा ! इसलिए सावधानी बरते !

खबर काम की लगी हो तो एक like ज़रूर करे और वीडियो को शेयर करना न भूले ! ताकि जो भारतीय प्रवासी या विदेशी लोग अपने नवजात शिशु का वीज़ा बनवाना चाहते हैं उन्हें इस वीडियो के ज़रिये जानकारी मिल सके !

हम लाते रहेंगे ऐसी ही तमाम ज़रूरी खबरें।।।।।।।।।।।।।।। तब तक देखते रहिये Daily saudi News !

Leave a Comment