सऊदी अरब में विदेशी लड़कियों से शादी करने पर मिलेगा 12 लाख !

क्या आप किसी के साथ घर बसाने के लिए तैयार हैं, सऊदी अरब में रहते हुए शादी का अगला कदम उठाना चाहते हैं? यदि आप शादी करने के योग्य हैं, तो आवश्यक कदम और शर्तों के बारे में आप को पता होना चाहिए।

सऊदी अरब एक ऐसा देश है जो शादी को विश्वसनीय रूप से मूल्यवान मानता है. किंगडम में शादी करना और परिवार बसाना बहुत बड़ी उपलब्धि है. सऊदी अरब में शादी करना प्रवासियों के लिए आसान प्रक्रिया नहीं है. सऊदी अरब में आ चुका है अब नया कानून ! क्या कहता है ये नया कानून ! बताएँगे आपको इस वीडियो में !

शुरुआत के लिए, धार्मिक मान्यताओं की परवाह किए बिना,सऊदी के कानून के अनुसार केवल मुस्लिम व्यक्ति ही सऊदी मे विवाह कर सकता हैं. सऊदी अरब की अदालत किसी अन्य धर्मों के बीच विवाह को मान्यता नहीं देती है. यहा का कानून मुख्य रूप से शरिया (इस्लामिक) कानून द्वारा पालन की जाने वाली अदालतों पर आधारित है।

कहा जा रहा है, यदि आप एक अलग धर्म या राष्ट्रीयता के हैं, तो सऊदी अरब में अपनी शादी को मान्यता देने का एकमात्र तरीका देश के बाहर शादी करना है और लौटने पर, कानूनी विवाह प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना, या फिर आपका दूतावास या आपके साथी देश के प्रतिनिधित्व दूतावास जा कर (शादी कर सकते है) दूतावास द्वारा कानूनी स्वीकृति की आवश्यकता होती है, जिस देश से यह प्रतिनिधित्व करता है, जिस देश से, आपका साथी किंगडम में आता है. उदाहरण के लिए, वर्तमान में, फ़िलीपीन्स दूतावास में विवाह करने के लिए प्राधिकरण है, लेकिन अधिकांश यूरोपीय दूतावास ऐसी सेवा प्रदान नहीं कर रहे हैं।

यदि आप मुस्लिम हैं, तो आपको यह सुनिश्चित करने के लिए जांच करनी चाहिए कि आप सऊदी अरब में शादी के योग्य (qualify) हैं या नहीं।

सऊदी अरब में शादी करने के लिए लोन लेने का नियम लागू है जिससे देश के ज़रूरतमंद लोगों को बहुत फायदा होता है. वहीँ अब उनके ही हित में एक नई और अच्छी जानकारी सामने आ रही है, जहाँ सऊदी के सामाजिक विकास बैंक ने विवाह के लिए लोन की आवश्यकता को 12,500 रियाल से बढ़ाकर 14,500 रियाल कर दिया है.

शादी करने के इच्छुक सऊदी नागरिकों को अपने ही देश की महिलाओं के अलावा जीसीसी देशों की महिलाओं या देश में रहने वाली विदेशी महिलाओं से शादी करने के लिए 60,000 रियाल का लोन दिया जाएगा। बैंक ने कहा है कि जो व्यक्ति शादी के लिए कर्ज लेना चाहता है उसकी सैलरी 14500 रियाल से ज्यादा नहीं होनी चाहिए.

यदि सऊदी अरब में आवेदक पहली बार शादी कर रहा है, और पत्नी विदेशी है, तो संबंधित संस्थान से परमिट संलग्न किया जाना चाहिए। लोन लेने वाले की उम्र 70 वर्ष से कम होनी चाहिए और उसका बैंक रिकॉर्ड भी अच्छा होना चाहिए। ताकि शादी शुदा ज़िंदगी में कोई दिक्क्त न हो. बता दे कि GCC देशों की महिलाओं से शादी करने पर भी लोन मिलता है ! अब कितना रियाल का मिलेगा लोन इसकी जानकारी आपको देते हैं !

शादी करने के इच्छुक सऊदी नागरिकों को हमवतन महिलाओं यानी सऊदी महिलाओं के अलावा जीसीसी देशों की महिलाओं या देश में रहने वाली विदेशी महिलाओं से शादी करने के लिए 60,000 रियाल का लोन दिया जाएगा। बैंक ने कहा है कि जो व्यक्ति शादी के लिए कर्ज लेना चाहता है उसकी सैलरी सऊदी में 14500 रियाल से ज्यादा नहीं होनी चाहिए. अगर इससे ज़्यादा वेतन हुआ तो वे लोन के हकदार नहीं होंगे।

Leave a Comment