सऊदी अरब में कारें अब पेट्रोल डीज़ल से नहीं बल्कि चलेंगी हाइड्रोजन से !

सऊदी अरब में कारें अब पेट्रोल डीज़ल से नहीं बल्कि चलेंगी हाइड्रोजन से !

सऊदी किंगडम दुनिया सबसे सर्वोच्च तेल निर्यातक देश है, फिर भी आने वाले कल में सऊदी अरब की तमाम गाड़ियां पेट्रोल से नहीं बल्कि ह्य्द्रोज़ेन से चलाने का इंतज़ाम किया जा रहा है ! आखिर क्यों इतने बड़े तेल निर्यातक देश ने ये फैसला लिया होगा ! जानने के लिए वीडियो को बिना स्किप किये अंत तक देखिये गा !

अस्सलाम अलैकुम।।।।।।।।।।।।।।। मैं अंदलीब अख्तर और आप देख रहे हैं Daily Saudi News !

इन दिनों देश दुनिया में प्रदुषण इतना फ़ैल गया है कि ये सीधे हमारे सेहत पर बुरा असर डालता है. दुनिया में सर्वाधिक प्रदूषण फैलाने वाले देशों में से एक सऊदी अरब ने हानिकारक गैसों का उत्सर्जन कम करने के लिए नया कार्ययोजना बनाया है और सऊदी अरब ने यह कार्ययोजना मिस्त्र में हो रहे पर्यावरण सम्मेलन में घोषणा की है !

इस कार्ययोजना के तहत सऊदी अरब में कारें और अन्य वाहन हाइड्रोजन से चलाए जाएंगे। समुद्र के प्लास्टिक कचरे को रीसाइकिल कर उससे कई तरह के उत्पाद बनाए जाएंगे। रेगिस्तान में करोड़ों पौधे लगाकर कार्बन डाई आक्साइड का स्तर कम किया जाएगा। इस नए प्लान के जरिये सऊदी अरब खुद को स्वच्छ ऊर्जा के समर्थक और पर्यावरण के अनुरूप कार्य करने वाले देश के रूप में प्रस्तुत कर रहा है। साथ ही जोर-शोर से पर्यावरण सुरक्षा के बिंदु रखे जा रहे हैं।

अगर आपने हमारे पेज को अब तक फॉलो नहीं किया है तो तुरंत कर लें ताकि आप हर खबर से Updated रहे !

वहीँ प्रदूषण को लेकर सऊदी अरब के पर्यावरण मामलों के दूत आदेल अल-जुबैर ने कहा है कि अब दुनिया के सामने एक उदाहरण पेश करना चाहते हैं कि पर्यावरण की सुरक्षा के लिए क्या और कितना किया जा सकता है। उल्लेखनीय है कि तेल और गैस को जमीन के नीचे से निकालने की प्रक्रिया में बड़ी मात्रा में हानिकारक गैसें वायुमंडल में जाती हैं। सऊदी अरब विश्व के सबसे बड़ा तेल निर्यातक देश है। वह प्रतिदिन एक करोड़ बैरल कच्चे तेल का निर्यात करता है तो ऐसे में वायु मंडल का दूषित होना लाज़मी है !

हफ्ते भर की चर्चा में पर्यावरण सुधार के लिए कुछ खास न होता देख विश्व भर के पर्यावरण प्रेमियों ने औद्योगिक देशों से शर्म अल-शेख में हो रहे सम्मेलन को उपयोगी साबित करने की मांग की है। कहा है कि विश्व के कई हिस्सों में आ रहीं प्राकृतिक आपदाएं और पृथ्वी का बढ़ रहा तापमान चिंता बढ़ा रहा है। सैकड़ों पर्यावरण प्रेमियों ने रविवार को सम्मेलन स्थल के नजदीक प्रदर्शन कर विकसित देशों के रुख पर नाराजगी जताई। उन्होंने मांग करी है कि उद्योगों के जरिये वातावरण को प्रदूषित कर रहे देश स्थिति में सुधार के लिए तत्काल सुधारात्मक उपाय करें,

वरना आने वाले जनरेशन बहुत खतरे में है ! पर्यावरण सम्मेलन में हिस्सा ले रहे जर्मनी के प्रतिनिधियों ने भी पर्यावरण की स्थिति और सुधार के उपायों की धीमी गति पर चिंता जताई है ! प्रदर्शनकारियों ने प्रदूषण फैलाने पर रोक न लगाए जाने और विरोध की अनदेखी करने पर भी गुस्सा जताया। कहा कि पर्यावरण प्रेमियों को परेशान और हतोत्साहित करने के लिए मिस्त्र सरकार ने भी वही सब किया है जो ब्रिटेन और उससे पहले के सम्मेलनों में किया गया है !

खबर पसंद आयी तो एक like ज़रूर करें अऊर वीडियो को शेयर करना न भूले !

हम लाते रहेंगे ऐसी ही तमाम जानकारियां।।।।।।।।।।।।।। तब तक देखते रहिये Daily Saudi News !

Leave a Comment