सऊदी अरब सरकार ने भारत के गुजरात में पुल गिरने से गयी लोगों की जान पर जताया दुःख !

दरअसल रविवार के दिन गुजरात के मोरबी जिले में मच्छू नदी पर बना केबल ब्रिज (Morbi Cable Bridge) टूटने से सैकड़ों से अधिक लोगों की जान चली गयी. अगर सटीक आकड़ों की बात करें तो 140 लोगों की मौत हो गई है। मरने वालों में महिलाओं और बच्चों की संख्या अधिक बताई जा रही है।इस इतनी बड़ी घटना पर सऊदी अरब सरकार ने भी दुःख जताया है

विदेश कार्यालय ने सोमवार को एक बयान में कहा कि “राज्य ने पुल दुर्घटना में मारे गए लोगों और भारत के मित्र लोगों के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की है और घायलों के जल्द स्वस्थ होने की कामना की है। रिपोर्ट के मुताबिक अहमदाबाद से 200 किलोमीटर दूर मोरबी क्षेत्र में 150 साल पुराना पुल धार्मिक उत्सव मना रहा था तभी पुल को सहारा देने वाली केबल अचानक टूट गई.

उस समय पुल पर या उसके आसपास 500 लोग थे जो माछू नदी में गिरे थे। बता दे कि मोरबी ब्रिज का निर्माण वर्ष 1880 में ब्रिटिश शासन के दौरान हुआ था। 233 मीटर लंबे और 1.5 मीटर चौड़े इस पुल के निर्माण के लिए सभी सामग्री यूके से भेजी गई थी। मरम्मत और मरम्मत के बाद चार दिन पहले ही पुल को यातायात के लिए खोल दिया गया था।

वहीँ सोमवार को प्रधानमंत्री Modi) गुजरात के केवड़िया जिले में राष्ट्रीय एकता दिवस परेड में शामिल हुए थे। इससे पहले गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल और गृहमंत्री मोरबी जा चुके हैं। वहां राहत एवं बचाव कार्य जारी है। राजकोट रेंज के पुलिस महानिरीक्षक अशोक यादव ने बताया कि पुल रविवार शाम लगभग 6.30 बजे टूटा था। उस समय पुल पर 300 से अधिक लोग मौजूद थे।

गुजरात के मोरबी हादसे में घटनास्थल पर खोज और बचाव कार्यों में सेना के लगभग 300 जवान तैनात हैं। बचाव के लिए जरूरी सभी संसाधनों से लैस सेना के जवान इस अभियान में NDRF, SDRF, IN, तटरक्षक बल, भीड़ प्रबंधन और सुरक्षा में नागरिक प्रशासन और पुलिस की सहायता कर रही है !

गुजरात के मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने हादसे पर दुख जताते हुए मृतकों के परिवार के लिए 4-4 लाख रुपये और घायलों को 50-50 हजार रुपये देने का ऐलान किया है। वहीं, प्रधानमंत्री कार्यालय ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात के मुख्यमंत्री और अन्य अधिकारियों ने मोरबी में हुई दुर्घटना के संबंध में बात की है। उन्होंने बचाव अभियान के लिए टीमों को तत्काल जुटाने, स्थिति की बारीकी से और लगातार निगरानी करने और प्रभावित लोगों को हर संभव मदद देने को कहा है।

Leave a Comment