HomeSaudi Arabiaसऊदी अरब में काम करने वाले भारतीय प्रवासी की हत्या ! उसके...

सऊदी अरब में काम करने वाले भारतीय प्रवासी की हत्या ! उसके पाकिस्तानी दोस्त ने ही रची थी साज़िश, मचा कोहराम

दुनिया भर के प्रवासी काम के सिलसिले में सऊदी अरब जाते हैं. जहाँ कभी कभी वे सफल हो जाते हैं तो कभी उन्हें एजेंटों से धोखा मिल जाता है. मगर अब जो खबर आयी है वो बहुत दिल दहला देने वाला है. जहाँ नौकरी के सिलसिले में सऊदी अरब में जगदीशपुर के टांडा के रहने वाले निवासी की दो दिन पहले पाकिस्तान के रहने वाले साथी सहकर्मी ने हत्या कर दी।

foreign minister
foreign minister

हत्या के बाद इसकी जानकारी उसी के साथ रहने वाले एक युवक ने परिजनों को दी तो हड़कंप मच गया। युवक के बुजुर्ग पिता ने केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को पत्र भेजकर अपने बेटे का शव दिलाने व मामले की जांच कराने की गुहार लगाई है। जगदीशपुर थाना क्षेत्र के वारिसगंज टांडा गांव निवासी राजनारायण यादव का 43 वर्षीय पुत्र जंगबहादुर नौकरी के सिलसिले में वर्ष 2017 में वीजा लेकर सऊदी अरब गया था।

pakistan airport
pakistan airport

सऊदी अरब में जंगबहादुर 7344 उदे आईबीएन उमर 2504 एएन नखील रियाद 12385 (नार्थ रिंग रोड एक्जिट टू) निवासी अलदक्तूर अब्दुल अजीज अलवशर के यहां बतौर ड्राइवर नौकरी करता था। जंगबहादुर का छोटा भाई विनोद यादव कुवैत में रहकर नौकरी करता है। बीते छह जुलाई की रात जंगबहादुर के साथ रहने वाले भारतीय अरविंद ने विनोद को फोन कर जंगबहादुर की हत्या होने की जानकारी दी। अरविंद ने विनोद को बताया कि जंग बहादुर की हत्या उसी के साथ चालक के रूप में नौकरी करने वाले पाकिस्तानी युवक ने की है।

saudi rod
saudi rod

जंग बहादुर के परिवार में बुजुर्ग पिता राज नारायण व मां रामावती के अलावा पत्नी मंजू देवी, स्नातक की पढ़ाई कर रहे 19 वर्षीय पुत्र सौरभ, इंटर में पढ़ने वाली 17 वर्षीय बेटी अंजलि व कक्षा सात में पढ़ाई कर रहा 12 वर्षीय बेटा गौरव है। जंग बहादुर की मौत की सूचना मिलते ही परिवार पर दुखों का पहाड़ टूट पड़ा। रो-रोकर परिवार के सभी सदस्यों का हाल बेहाल है। मामले की जानकारी सामने आते ही एसडीएम सविता यादव व सीओ अर्पित कपूर के अलावा एसएचओ अरुण कुमार द्विवेदी पीड़ित के घर पहुंचे और परिजनों को ढांड़स बंधाते हुए घटना से जुड़ी जानकारी ली। परिजनों ने अफसरों को रो-रोकर पूरी दास्तान बताई और जंगबहादुर का शव वापस लाने में मदद करने की गुहार लगाई। विदेश मंत्रालय व भारतीय दूतावास में तैनात अफसरों से जंगबहादुर का शव जल्द उसके परिजनों तक पहुंचाने का अनुरोध किया है।

RELATED ARTICLES
- Advertisment -spot_img

Most Popular