सऊदी अरब में अब लगेगा Tax, तलाक को लेकर जारी हुआ बड़ा फरमान !

सऊदी अरब में अब लगेगा Tax, तलाक को लेकर जारी हुआ बड़ा फरमान !

तलाक की बढ़ती घटनाओं को संबोधित करने के लिए सऊदी अरब में तलाक पर भारी टैक्स लगाने का प्रस्ताव रखा गया है ! पूरे सोशल मीडिया जमकर ये खबर फ़ैल रही है ! क्या है पूरा मामला बताएँगे आपको इस वीडियो में !

अस्सलाम अलैकुम।।।।।।।।।।।।।।।। मैं अंदलीब अख्तर और आप देख रहे हैं Daily Saudi News !

वर्षों पहले अरब देशों में तलाकशुदा महिलाएं तिरस्कार की पात्र थीं। लेकिन अब तलाक सामान्य हो रहे हैं। 2000 में महिलाओं के लिए तलाक लेने की प्रक्रिया आसान होने के बाद मिस्र में तलाक दोगुना से अधिक बढ़े हैं। जोर्डन, लेबनान, कतर और संयुक्त अरब अमीरात में 35% से अधिक शादियों का अंत तलाक में हुआ है। कुवैत में लगभग आधी शादियां टूट जाती हैं। तलाक के पैटर्न में बदलाव आया है। पहले केवल पुरुष ही तलाक लेते थे। अब महिलाएं आगे आई है।

वहीँ सऊदी अरब के जाने-माने स्तंभकार इंजीनियर तलाल अल-क़शकारी ने सऊदी के एक अखबार में लिखे लेख में दावा किया है कि सऊदी अरब में तलाक के मामले बहुत बढ़ गए हैं. जहाँ हर 10 मिनट में एक तलाक हो रहा है और इसे रोकने के लिए एक बड़ा कदम उठाया जाना चाहिए ! इसलिए तलाल अल-कश्करी ने तलाक की बढ़ती घटनाओं को रोकने के लिए एक भारी कर का प्रस्ताव रखा और कहा कि तलाक के टैक्स से जमा धन से एक fund तैयार चाहिए, जो उन कपल की मदद करेगा जो शादी करना चाहते हैं।’

divorce tax fund के साथ समाज में गृहस्थ जीवन के महत्व को बढ़ावा देने और विवाह को सफल बनाने के लिए एक अभियान भी चलाना चाहिए.’
तलाल अल-कश्करी का कहना है कि सीरिया में एक प्रथा तलाक को रोकने में मददगार रही है। सीरिया के लोग शादी के वक्त दहेज की रकम को दो हिस्सों में बांट देते थे। पहला हिस्सा शादी के वक्त दिया जाता था, यह रकम छोटी रखी जाती थी, जबकि दूसरा हिस्सा तलाक के बाद से जुड़ा होता था।
किसी कारण से तलाक होने की स्थिति में दहेज के दूसरे भाग की एक बड़े रकम का भुगतान करना पड़ता था। इसने सीरिया में तलाक की घटनाओं को बढ़ने से रोका।

अगर आपने हमारे पेज को अब तक फॉलो नहीं किया है तो तुरंत कर लें ताकि आप तक ज़रूरी जानकारियां पहुँचती रहे !

सऊदी स्तंभकार का कहना है कि यह समस्या हमारे समाज में बहुत जटिल है. यहां सिर्फ पति ही दोषी नहीं है बल्कि पत्नी भी छोटी-छोटी बातों पर तलाक मांग लेती है। उन्होंने आगे कहा कि ‘मैं काफी समय से तलाक के बढ़ते मामलों को रोकने के बारे में सोच रही थी. मैं चाहता हूं कि तलाक का दायरा सीमित हो और तलाक जैसा अनुचित फैसला बिना किसी बड़े मजबूरी के न लिया जाए।

अधिकतर अरब शासकों ने तीन बार तलाक बोलकर विवाह संबंध खत्म करने के पुराने रिवाज पर रोक लगा दी है।
मध्य पूर्व के देशों में तलाक पश्चिमी देशों की तुलना में बहुत सस्ते हैं। सऊदी अरब के ताबुक शहर में एक 38 वर्षीय इंजीनियर बताते हैं, उन्हें अपने तीसरे तलाक के लिए केवल दो लाख रुपए खर्च करना पड़े हैं।

खबर पसंद आयी हो तो एक like ज़रूर करें और वीडियो आगे शेयर करना न भूले !

हम लाते हैं रहेंगे ऐसी ही तमाम जानकारियां।।।।।।।।।।।।।।।।। तब तक देखते रहिये Daily Saudi News !

Leave a Comment