कुवैत में प्रवासियों का Work Permit हुआ बैन, तीन चरणों में हटाया जाएगा भारतीयों को !

दरअसल कुवैती अधिकारियों ने कुछ देश के प्रवासियों के लिए वर्क परमिट जारी करना बंद कर दिया है. वहीँ सूत्रों से पता चला कि “आंतरिक मंत्रालय ने कुछ राष्ट्रीयताओं के लिए वर्क परमिट जारी करने को रोकने के लिए मौखिक निर्देश जारी किया हैं लेकिन उन राष्ट्रीयताओं का अब तक कोई डिटेल्स नहीं दिया गया है.

वहीं उन्होंने ये भी कहा कि “यह एक संगठनात्मक उपाय है। इतना बड़ा कदम उठाने का क्या कारण है. इस बात की अधिकारियों की ओर से फिलहाल कोई पुष्टि नहीं की गई है. वहीं कुवैत ने पारिवारिक यात्रा वीजा जारी करना बंद करने के हफ्तों बाद ये जानकारी दी है। इससे पहले जून में, आंतरिक मंत्रालय ने एक नया तंत्र तैयार करने के लिए अगली सूचना तक यात्रा वीजा जारी करना बंद कर दिया था। कुवैती अधिकारियों द्वारा यह सुनिश्चित करने के लिए सख्त नियम निर्धारित करने से पहले कि वे अपने वीजा की अवधि समाप्त होने पर बाहर जाएंगे, फैमिली विजिट वीजा जारी करना फिर से शुरू करने की संभावना नहीं है।

kamagar

वहीँ दूसरी तरफ कुवैत अधिकारियों से मिली जानकारी के अनुसार नगरपालिका में जॉब कर रहे प्रवासियों को हटाकर उनके स्थान पर कुवैती नागरिकों को जॉब देने की प्लानिंग की जा रही है और इस प्लानिंग को तीन चरणों में बांटा गया है और यह प्लानिंग 1 सितंबर से लागू हो चुकी है. पहले चरण में 33 फीसदी प्रवासियों को रिप्लेस किया जाएगा। दूसरा चरण एक फरवरी से शुरू होगा जिसमे फिर से 33 फीसदी प्रवासियों को रिप्लेस किया जाएगा। तीसरा चरण एक जुलाई से शुरू होगा जिसमे बाकी बचे प्रवासियों को रिप्लेस किया जाएगा।

वहीँ कुवैत में एक व्यक्ति को वीज़ा फ्रॉड के आरोप में गिरफ्तार किया गया है, जिसके बाद कोर्ट ने उसे 5 साल जेल की सजा सुनाई है. दरअसल आरोपी कामगारों को वीज़ा देने के नाम ठगा करता था. बाद में जब पूरी जांच हुई तो पता चला कि आरोपी कई Egyptian प्रवासियों को नौकरी देने के नाम पर ठग चुका था. कुवैत में नौकरी और वीजा देने के नाम पर लोग उसके साथ ठगी के मामलों में बढ़ोतरी हुई है. ऐसे मामले कोरोना के समय में बहुत देखने को मिले है. तीन सालों में करीब 14,650 विदेशी कुवैत में विजिट वीजा पर आए लेकिन वह वापस नहीं गए।

Leave a Comment